बीएड (B.Ed) कोर्स क्या है?

शिक्षक बनने के लिए राज्य सरकार के द्वारा बैचलर ऑफ एजुकेशन (B.Ed) का कोर्स संचालित किया जाता है, जो अभ्यर्थी शिक्षक बनने के इच्छुक है, वह इस कोर्स के माध्यम से शिक्षक बन सकते है | समय- समय पर नेशनल कौंसिल ऑफ़ एजुकेशनल रिसर्च एंड ट्रेनिंग के द्वारा इस पाठ्यक्रम के लिए दिशा- निर्देश में परिवर्तन किया जाता है, जिसके अनुरूप इसके पाठ्यक्रम और अवधि में परिवर्तन होता रहता है |

ये भी पढ़े: डी एल एड (D.EL.ED) क्या है?

बीएड कोर्स क्या है (WHAT IS B.ED COURSE)?

प्राथमिक विद्यालय और जूनियर हाईस्कूल विद्यालय में शिक्षक बनने के लिए बीएड कोर्स को मान्यता प्रदान की गयी है | यह दो वर्षीय कोर्स है, इसको सफलता पूर्वक करने के बाद आप शिक्षक बनने की प्रक्रिया में शामिल हो सकते है |

योग्यता (QUALIFICATION)

बीएड (B.Ed) कोर्स को करने के लिये राज्य सरकार और NCTE के द्वारा स्नातक में 50 प्रतिशत अंकों की अनिवार्यता निर्धारित की गयी है, आरक्षित श्रेणी के अभ्यथियों को नियमानुसार छूट प्रदान की जाती है |

ये भी पढ़े: आईटीआई (ITI) कोर्स क्या है?

आयु सीमा (AGE LIMIT)

बीएड करने के लिए अभ्यर्थी की आयु 21 वर्ष से 35 वर्ष के बीच में होनी अनिवार्य है, आरक्षित श्रेणी के अभ्यर्थियों को नियमानुसार छूट प्रदान की जाती है |

एडमिशन (ADMISSION)

बीएड (B.Ed) कोर्स की मान्यता राज्य सरकार द्वारा महाविद्यालयों को प्रदान की जाती है, इसमें प्रवेश के लिए राज्य सरकार के द्वारा राज्य स्तर पर सयुंक्त प्रवेश परीक्षा का आयोजन किया जाता है, इस प्रवेश परीक्षा में सफल होने वाले छात्रों की मेरिट जारी की जाती है, इसके बाद महाविद्यालयों में रिक्त सीटों के अनुसार कॉउंसलिंग करा कर प्रवेश दिया जाता है |

फीस (FEES)

कॉलेज का प्रकार प्रथम वर्ष द्वितीय वर्ष
सरकारी कॉलेज लगभग 15000 रुपये लगभग 12000 रुपये
प्राइवेट कॉलेज 51250 रूपये 30000 रूपये

ये भी पढ़े: जीएनएम (GNM) कोर्स क्या है

बीएड परीक्षा पैटर्न (Exam Patterns)

बीएड (B.Ed) प्रवेश परीक्षा में दो पेपर होते है-

प्रथम प्रश्न पत्र (FIRST PAPER)

विषय प्रश्नों की संख्या अंक
सामान्य ज्ञान 50 100
भाषा (हिंदी/अंग्रेजी) 50 100

द्वितीय प्रश्न पत्र (SECOND PAPER)

विषय प्रश्नों की संख्या अंक
सामान्य अभिरुचि परीक्षण 50 100
विषय योग्यता (कला, वाणिज्य, विज्ञान, कृषि) 50 100

द्वितीय प्रश्न पत्र में आपको विषय योग्यता के अंतर्गत अपने विषय से सम्बंधित प्रश्नों को हल करना होगा | गलत उत्तर देने पर 1/3 अंकों का नकारात्मक अंकन किया जाता है |

बीएड (B.Ed) नोटिफिकेशन – 2019- 21 ==> यहाँ पर क्लिक करें

आधिकारिक वेबसाइट ==> यहाँ पर क्लिक करें

पुराने प्रश्न पत्र (OLD PAPER)

यहाँ पर आपको पूर्व में आयोजित हो चुकी परीक्षा का प्रश्न पत्र उपलब्ध कराया जा रहा है, जिससे आपको आगामी प्रश्न पत्र के विषय में सही अनुमान हो जाये |

प्रश्न पत्र देखने के लिए ==> यहाँ पर क्लिक करें

बीएड की तैयारी कैसे करे (PREPARATION)?

बीएड में प्रवेश के लिए इंट्रेंस एग्जाम का आयोजन किया जाता है, इस इंट्रेंस एग्जाम में अच्छे अंक प्राप्त करने के बाद ही आप इसमें प्रवेश प्राप्त कर सकते है | इसके लिए आपको अच्छी तैयारी करनी होगी | सबसे पहले आपको इसके पाठ्यक्रम को समझना होगा | इसके बाद आपको अपनी योग्यता की जाँच करनी होगी कि आप किस सब्जेक्ट में कमजोर है और किस सब्जेक्ट में आपकी अच्छी पकड़ है |

ये भी पढ़े: नीट (NEET) परीक्षा क्या होता है?

समय सारणी (TIME TABLE)

तैयारी करने में समय-सारणी और अनुशासन बहुत ही महत्व रखता है, आपको अपने अनुकूल एक समय सारणी बनानी होगी जिसमे आपको सभी विषयों पर पर्याप्त समय देना होगा | आप जिस विषय में कमजोर हो उसमें आपको अधिक समय देना चाहिए और जिस विषय में आपकी पकड़ अच्छी है, उसमें आप कम समय दे सकते है |

सभी विषयों का बेसिक समझे

तैयारी करने के लिए पहले आपको सभी विषय का बेसिक मजबूत करना होगा उसके बाद आप अच्छी तैयारी कर सकते है | बेसिक समझने के बाद ही आप परीक्षा में पूछे जाने वाले प्रश्नों को हल करना शुरू करे |

इंटरनेट का प्रयोग करे

अच्छी तैयारी करने के लिए आपको इंटरनेट का प्रयोग करना चाहिए इससे आपके समय और पैसे दोनों की बचत होगी | आज के समय में यूट्यूब पर बहुत से चैनल फ्री में तैयारी करवाते है, इसकी सहायता से आप अच्छी तैयारी कर सकते है |

ये भी पढ़े: लेखपाल (LEKHPAL) कैसे बने

मॉक टेस्ट (MOCK TEST)

तैयारी करते समय आपको बीच-बीच में अपनी तैयारी की जाँच भी करनी चाहिए, इसके लिए आप मॉडल पेपर या मॉक टेस्ट दे सकते है | आप चाहें तो ऑनलाइन मॉक टेस्ट दे सकते है, या फिर मार्केट से प्रैक्टिस सेट खरीद कर उनको हल कर सकते है | आप जितने अधिक प्रैक्टिस सेट हल करते है, आपके अच्छे नंबरों की संभावना उतनी ही अधिक बढ़ जाती है |

रिवीजन (REVISION)

परीक्षा के कुछ दिन पहले आपको अभी तक पढ़ें हुए सभी विषयों का अच्छे से रिवीजन करना है, अन्यथा आप प्रश्न के उत्तर के विषय में कन्फ्यूज हो सकते है | किसी भी परीक्षा में रिवीजन आप को मेरिट के टॉप पर ले जा सकता है | इसलिए परीक्षा के पूर्व इसके लिए पर्याप्त समय पहले ही तय कर ले तो बेहतर होगा | इस प्रकार से यदि आप अपनी तैयारी करते है, तो आप निश्चित ही सफल हो सकते है |

ये भी पढ़े: ग्राम विकास अधिकारी (VDO) कैसे बने

ये भी पढ़े: भारतीय संविधान क्या है?